Hindi Essay on “Doorsamvedan Technique” , ”दूरसंवेदन तकनीकी” Complete Hindi Essay for Class 10, Class 12 and Graduation and other classes.

0
139


दूरसंवेदन तकनीकी

Doorsamvedan Technique

                दूरसंवेदन तकनीकी का अर्थ उपग्रह आधारित दूरसंवेदन तकनीकी से है, जिसका उपयोग मौसम, वातावरण, कृषि तथा भूमि संबंधी आंकड़़ों के एकत्रीकरण एवं समायोजन हेतु किया जा रहा है। आर्द्र भूमि मानचित्रीकरण, सूखा एवं बाढ़ पर्यवेक्षण, पर्यावरण परिवर्तन तथा उसके प्रभाव इत्यादि कार्यों को समन्वित रूप से करने में दूरसंवेदन तकनीक काफी लाभप्रद सिद्ध हुई है।

                दूरसंवेदन की जो तकनीकी वर्तमान समय में हमें देखने को मिलती है, वह उपग्रहों के क्रमिक विकास का परिणाम है। 1962 में पहली बार एक सक्रिय उपग्रह छोड़ा गया था। टेल स्टार नामक यह उपग्रह अपने परिपथ पर रहते हुए भू-स्टेशन पर रेडियो तरंगें तो भेजता था लेकिन संकेत काफी कमजोर और ध्वनि रहित थे। प्रारम्भिक दौर मंे उपग्रहों का प्रशेपण मौसम संबंधी जानकारी के लिए किया जाता था। जुलाई 1972 में नासा द्वारा रिसोर्स आॅब्जर्वेशन सिस्टम के प्रक्षेपण के साथ ही एक नए युग का शुभारंभ हुआ। भू अवलोकन हेतु प्रक्षेपित किया जाने वाला यह प्रथम उपग्रह था। इस उपग्रह के माध्यम से प्राकृतिक संसाधनों के आकलन की क्षमता में वृद्धि हुई। प्रारम्भ में इस उपग्रह से प्राप्त आंकड़ों का उतना उपयोग नहीं हो पाया जितनी की अपेक्षा थी। इसका मुख्य कारण उस समय उपलब्ध ग्राउण्ड रिजोल्यूशन था, जो आकंड़ों को उपयोगी स्तर तक सृजित करने में अक्षम था। 1975 में इस उपग्रह की अगली श्रृंखला का प्रक्षेपण किया गया। इसका नाम बदलकर लैण्डसेट कर दिया गया। 1976. 1982 तथा 1986 में लैण्डसेट श्रृंखला के तीन उपग्रह प्रक्षेपित किए गए। ये उपग्रह उच्च क्षमता से युक्त थे तथा इनकी संवेदन क्षमता भी पहले से अधिक थी। वर्तमान में लैंडसेट-4 तथा लैण्डसेट-5 क्रियाशील हैं और विश्व के अधिकाशं देश इसके आंकड़ों का उपयोग कर रहे हैं।

                भारत द्वारा भू-निरीक्षण हेतु पहला दूर-संवेदी उपग्रह 1 जून 1975 को प्रक्षेपित किया गया था। इसके ठीक 2 महीने बाद 10 अगस्त 1975 को रोहिणी का प्रक्षेपण किया गया। दूरसंवेदन के क्षेत्र में भारत का यह प्रारम्भिक चरण था।

                इस दौर में आर.एस.1, आर.एस. डी-1, भास्कर-2 नामक दूरसंवेदी उपग्रहांे का प्रक्षेपण किया गया था। भारत द्वारा उक्त किस्म के दूरसंवेदी उपग्रह आई.आर.एस. 1ए को 19 मार्च 1988 को प्रक्षेपित किया गया। बाद के वर्षोंे में इसी श्रृंखला के तीन और उपग्रह छोड़े गए, इसके बाद आई.आर.एस. पी-6 है, जिसे रिसोर्समेंट नाम दिया गया। अभी हाल ही में भारत का अत्याधुनिक दूरसंवेदी उपग्रह कार्टोसेट छोड़ा गया है। जहां रिसोर्समेंट का उपयोग ज्यादातर कृषि, आपदा प्रबन्धन तथा भू-संसाधन के क्षेत्रों में आंकड़ों को एकत्र करने में किया जा रहा है, वहीं कार्टोसैट का उपयोग मौसम संबधी जानकारी हासिल करने में किया जा रहा है।

                दूरसंवेदी उपग्रहों से प्राप्त चित्रों को कम्प्यूटर की सहायता से बड़ा करके इनका विश्लेषण किया जाता है। उपग्रह से प्राप्त किसी भी सूचना के विश्लेषण के लिए कम्प्यूटर का प्रयोग अनिवार्य है। चूंकि ये सभी आंकड़े उपग्रह से टेलीमेट्री द्वारा प्राप्त किए जाते हैं और मैग्नेटिक टेप्स में संग्रहीत किए जाते हैं, इसलिए सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए इन चित्रों की कम्प्यूटर द्वारा डिजिटल प्रोसेसिंग की जाती है। उदाहरण के लिए- समुद्र में स्थित किसी विशेष वनस्पति के बारे में जानने के लिए पहले उस वनस्पति की परावर्तन क्षमता और उसकी मात्रा प्रयोगशाला में ज्ञात कर ली जाती है। प्रयोगशाला में प्राप्त आंकड़ों का उपग्रह द्वारा प्राप्त चित्रों के आंकड़ों से मेल कराने के बाद वास्तविक स्थिति की जानकारी प्राप्त की जाती है। इसी प्रकार प्रयोगशाला में विभिन्न मोटाई वाली बर्फ की परावर्तन क्षमता ज्ञात कर उपग्रह से प्राप्त चित्रों एवं आंकड़ों से मिलान कर सम्बन्धित स्थान पर स्थित बर्फ की मोटाई प्राप्त की जाती है।

                दूरसंवेदन प्रणाली को क्रियाशीलता के आधार पर दो भागों में विभाजित किया जा सकता है-सक्रिय दूरसंवेदन तथा निष्क्रिय दूरसंवेदन। सक्रिय दूर संवेदन में उपग्रह में लगे उपकरण विशेष प्रकार की तंरग को वस्तु विशेष पर न केवल भेजते हैं बल्कि उस तंरग को वापस आने पर ग्रहण भी करते हैं। इस क्रिया मे लगने वाले समय, विकिरण की सघनता इत्यादि के आधार पर निष्कर्ष प्राप्त किया जाता है। निष्कर्ष दूरसंवेदन में उपकरण तरंग प्रेषित नहीं करता बल्कि आने वाले तत्वों को ग्रहण करता है। निष्क्रिय एवं सक्रिय दूरसंवेदन में वहीं अंतर है जो साधारण फोटोग्राफी तथा फ्लैश फोटोग्राफी में है।

                दूरसंवेदन तकनीकी का उपयोग मौसम, वातावरण, कृषि तथा भूमि संबंधी आंकड़ों के एकत्रीकरण एवं समायोजन में किया जा रहा है। भारत ने अंतरिक्ष विभाग के अन्तर्गत राष्ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन प्रणाली की स्थापना की है। यह एक एकीकृत संसाधन प्रणाली है, जिसका उद्देश्य पारम्परिक तकनीकों में दूरसंवेदी प्रणाली द्वारा प्राप्त आंकड़ों के उपयोग से देश के प्राकृतिक संसाधनों की उपलब्धता का सही ढंग से आकलन कर उनको सूचीबद्ध करना तथा प्राकृतिक संसाधनों के उपयोग से सम्बन्धित सुझाव देना है।

                भारत में अब तक छोड़े गए रिमोट सेंसिंग सेटेलाइट इस प्रकार हैं-

                                           उपग्रह                                                                               प्रक्षेपण तिथि

                                आई.आर.एस.- 1 ए                                                                             17.3.88

                                आई.आर.एस.- 1 बी                                                                           29.8.91

                                आई.आर.एस.- 1 सी                                                                           28.12.95

                                आई.आर.एस.- 1 डी                                                                            29.9.97

                                आई.आर.एस.- पी-1                                                                           20.9.93

                                आई.आर.एस.- पी-2                                                                           15.10.94

                                आई.आर.एस.- पी-3                                                                           21.3.96

                                आई.आर.एस.- पी-4                                                                           26.5.99  

                                जी सेट-1                                                                                               28.3.2001

                                जी सेट-2                                                                                               14.04.2001

                                कार्टोसेट                                                                                                5.5.05

                                आर्द्र भूमि, मानचित्रीकरण, सूखा तथा बाढ़ पर्यवेक्षण, पर्यावरणीय परिवर्तन तथा उसके प्रभाव इत्यादि कार्यों को समन्वित रूप से दूर करने में दूरसंवेदन तकनीकी काफी लाभप्रद साबित हुई है। सूखा, बाढ़, भूंकप जैसी आपदाओं के समन्वित स्वरूप को भौगोलिक सूचना पद्धति कहते हैं। कम्प्यूटर आधारित इस पद्धति में हर प्रकार के आंकड़ों को स्थलीय फैलाव द्वारा प्रदर्शित किया जाता है। इस पद्धति की सहायता से दूरसंवेदन तकनीक द्वारा प्राप्त सूचनाओं, चित्रों एवं आंकड़ों को सुदूरवर्ती क्षेत्रों तक तेजी से सम्प्रेषित किया जाता है। इसका सबसे बड़ा लाभ किसानों को मिल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here